fbpx
Advertisements

AR Rahman Birthday: जानिए उनके जीवन से जुडी कुछ ख़ास बातें

AR Rahman B’day/ अल्लाह रक्खा रहमान (Allah Rakha Rahman) यानी आपके एआर. रहमान। महान संगीतकार और सिंगर ए.आर रहमान 6 जनवरी को अपना 52वां बर्थडे मना रहे हैं। बचपन में ए.आर रहमान का नाम दिलीप कुमार था। देश ही नहीं बल्कि दुनिया भी इस बेहतरीन संगीतकार की दीवानी है। दुनियाभर में करोड़ों लोग इस म्यूजिक डायरेक्टर (Music Composer AR Rahman) के प्रशंसक हैं।

एक वक्त ऐसा भी था, जब उन्हें एक-एक पैसे के लिए मोहताज रहना पड़ता था। मिडल क्लास तमिल मुदलियार फैमिली में जन्मे रहमान के पिता आरके शेखर, तमिल और मलयालम फिल्मों के प्रोड्यूसर थे। आज रहमान 19 अरब रुपए की नेटवर्थ के साथ जैगुआर, मर्सिडीज और वॉल्वो जैसे करोंड़ो की कार मेंटेन करते हैं।

ऑस्कर विजेता संगीतकार एआर रहमान अपनी जवानी के दिनों में आत्महत्या करना चाहते थे। ए.आर रहमान ने न्यूज एजेंसी भाषा से बातचीत में कहा- 25 साल तक, मैं खुदकुशी करने के बारे में सोचता था। रहमान कहते हैं कि मेरे पिता की मौत हो गई थी तो एक तरह का खालीपन था। इसके अलावा भी और भी कई सारी चीजें हो रही थीं। उन्होंने कहा मौत शास्वत है, जो बना है उसे बिगड़ना है तो फिर किसी चीज से डरना क्यों?

रहमान की संगीत में कोई खास रुचि नहीं थी। रेडियो पर वो तमिल संगीत सुनते जरूर थे लेकिन कभी इसी दुनिया के बेताज बादशाह बनेंगे, ये सोचा नहीं था। संगीत के सफर की शुरुआत हुई तब जब पांचवी कक्षा में उनके पिता ने रहमान को एक कीबोर्ड गिफ्ट किया। इसके बाद जो हुआ वो इतिहास में दर्ज हो चुका है।

 

दिलीप से अल्लाह रक्खा रहमान कैसे बने?
बहुत कम लोगों को ये बात पता होगी कि आप जिन्हें एआर. रहमान के नाम से जानते हैं, उनका जन्म वास्तव में एक हिंदू परिवार में हुआ था। परिवार ने उनका नाम रखा दिलीप कुमार(Rahman was born Dileep Kumar)। इस दिलीप कुमार के एक आध्यात्मिक गुरू हुआ करते थे। इनका नाम था कादरी इस्लाम। गुरू से प्रेरित होकर दिलीप कुमार ने 23 साल की उम्र में सनातन धर्म छोड़कर इस्लाम अपना लिया। अब उनका नया नाम था अल्लाह रक्खा रहमान यानी AR Rahman.

पहली कार हर किसी के लिए बेशकीमती होती है और जब मॉं का नाम आ जाता है तो भावुक होना बनता है। ऑस्कर और ग्रैमी पुरस्कार विजेता संगीतकार एआर रहमान के लिए भी उनकी पहली कार विशेष है। अधिक इसलिए क्योंकि यह उनकी मां, करीमा ने उन्हें उपहार में दी थी। 80 के दशक में राजदूत कार सबसे अधिक बिकने वाली कारों में से एक थी।

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: