fbpx

शर्मनाक : लड़कियों को पढ़ाती थी सेक्स का पाठ, भोजपुरी अश्लील गानों पर डांस करवाती थी मधु

मुजफ्फरपुर महापाप ( Bihar Shelter Home Case )की चार्जशीट में कई अहम चौकाने वाले खुलासे हुए हैं। मासूम बच्चियों को ब्लू फिल्म दिखाना और उन्हें कुर्सी से बांधकर उनसे बलात्कार करने का जिक्र चार्जशीट में मौजूद है। लेकिन इस बीच महापापी ब्रजेश ठाकुर की राजदार मधु को लेकर भी बड़े खुलासे हुए हैं। चार्जशीट के अनुसार मधु लड़कियों को सेक्स की शिक्षा देती थी और गंदे गाने पर डांस करने को विवश करती थी।

Bihar Shelter Home Case: Madhu
Bihar Shelter Home Case: Madhu

19 दिसंबर को सीबीआई ने जो चार्जशीट दायर की है उसमें ब्रजेश ठाकुर(Brajesh Thakaur) के बाद अगर किसी पर सबसे बड़ा आरोप है तो वह है मधु। आरोप पत्र में यह साफ कहा गया है कि शाइस्ता परवीन उर्फ मधु ब्रजेश ठाकुर की खास राजदार थी और एनजीओ सेवा संकल्प और विकास समिति के प्रबंधन से जुड़ी थी। यह लड़कियों को सेक्स की शिक्षा देती थी और गंदे गाने पर डांस करने को विवश करती थी। आपको बता दें कि ‘सेवा संकल्प एवं विकास समिति’ वही आश्रय गृह है जहां रहने वाली लड़कियों का यौन शोषण हुआ। शाइस्ता परवीन उर्फ मधु इतनी क्रूर है कि वह बालिका गृह की नाबालिग बच्चियों को भोजपुरी गाना ‘जब मैं आयी सुहाग वाली रतिया’ जैसे अश्लील गानों पर नचाती थी। सीबीआई की ओर से दाखिल चार्जशीट से यह भी खुलासा हुआ है कि मधु इससे मना करने वाली लड़कियों को सजा के तौर पर नमक रोटी खाने को देती थी, और जो डांस करती थी उसे बेहतर खाना मिलता।

बालिका गृहकांड: 34 बच्चियों की जिंदगी नर्क बनाने वाले 12 गुनाहगार, शॉक्ड कर देने वाली रिपोर्ट में पढ़ें किस किरदार ने किया कौन सा घिनौना काम

दरअसल ब्रजेश ठाकुर की राजदार मधु सेवा संकल्प एवं विकास समिति के कार्यों को मैनेज करती थी। किशोरियों को सेक्स की शिक्षा देती थी और इसके लिए धमकियां भी देती थी। ब्रजेश ठाकुर ने अपने शहर के समुदाय आधारित संगठन वामा शक्ति वाहिनी की कमान मधु को दे रखी थी। मधु के माध्यम से ब्रजेश ठाकुर ने कई एनजीओ खोला और समाज कल्याण विभाग में अपनी पैठ बनाई। बाद में दोनों ने मिलकर बालिका सुधार गृह खोला और कई तरह के गैरकानूनी कामों को अंजाम दिया।

रेडलाइट एरिया चतुर्भुज स्थान की रहने वाली है मधु

मधु को पहले शाइस्ता के नाम से जाना जाता था। वह मुजफ्फरपुर के रेडलाइट इलाके चतुर्भुज स्थान की निवासी थी और कुछ साल पहले ठाकुर के साथ संपर्क में आई थी। दरअसल रेड लाइट इलाके से छुड़ाई गई लड़कियों के पुनर्वास के लिए एक अभियान चलाया गया था, इसके बाद वह ब्रजेश ठाकुर के करीब आई थी। सीबीआई की चार्जशीट से हुए इस खुलासे ने मुजफ्फरपुर में यातनाओं की नई कहानी सामने ला दी है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.