BJP की Prayagraj में भगवान राम के साथ निषाद राज की मूर्ति लगाने की योजना

bjp-plans-to-install-lord-ram-statue-with-nishad-raj-prayagraj-news
bjp-plans-to-install-lord-ram-statue-with-nishad-raj-prayagraj-news
BJP plans to install Lord Ram Statue with Nishad Raj, Prayagraj
BJP plans to install Lord Ram Statue with Nishad Raj, Prayagraj News

Prayagraj News : अयोध्या (Ayodhya) में भगवान राम (Lord Ram) की सबसे बड़ी मूर्ति लगाने के अलावा बीजेपी (BJP) सरकार अब प्रयाग में गंगा के किनारे निषाद राज को गले लगाए हुए भगवान राम की मूर्ति (Lord Ram Statue) लगाएगी. यूपी में निषाद वोट 14 फीसदी हैं. निषाद राज(Nishad Raj) के साथ अब शबरी की भी मूर्ति लगाने की मांग उठी है, जिन्हें रामचरित मानस में नीची जाति का बताया गया है. यूपी में अनुसूचित जाति का वोट भी 21 फीसदी है. बीजेपी(BJP) ने आज से उनका विशेष सम्मेलन शुरू किया है.

ऐसी मान्यता है कि भगवान राम (Lord Ram)ने वन जाते वक्त प्रयाग के शृंगवेरपुर में ही गंगा पार की थी, जहां निषाद राज (Nishad Raj) ने उनके चरण धोने के बाद ही उन्हें पार उतारा, इसलिए उनकी गिनती भगवान राम (Lord Ram) के बड़े भक्तों में है. यूपी के डिप्टी सीएम केशव मौर्य ने यहां गंगा किनारे निषाद राज को गले लगाए भगवान राम की मूर्ति लगाने का ऐलान किया है.

यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि भगवान राम की और निषाद राज(Nishad Raj) जी की मित्रता का, समरसता का, गले से मिलन का चित्र है. उसकी योजना बन गई है. यहां पर एक बड़ी जमीन को अधिग्रहीत करने या व्यवस्था करने का जिलाधिकारी इलाहाबाद, प्रयागराज (Prayagraj) को निर्देश भी दिया गया है. यहां इसकी तैयारी हो रही है.

यूपी में बीजेपी(BJP) की रणनीति गैर यादव ओबीसी वोटर को लुभाने की है. इसके लिए उसे कुर्मी, कुशवाहा और निषाद वोट चाहिए. निषाद वोट के लिए ही मुलायम ने कभी डाकू रही फूलन देवी को लोकसभा भेजा था. यूपी में निषाद आबादी 14 फीसद है. गंगा-यमुना के किनारे बसे जिलों में उनकी तादाद काफी है. निषाद आबादी गोरखपुर, देवरिया, महाराजगंज, प्रयाग, भदोही, मिर्ज़ापुर, सोनभद्र, वाराणसी, कानपुर देहात, फतेहपुर,उन्नाव,वगैरह में काफी है
बीजेपी(BJP) ने आज से अनुसूचित जाति सम्मेलन भी शुरू किया है. इसमें आए लोगों ने शबरी की मूर्ति भी लगाने की मांग की. बीजेपी (BJP)नेता परमेश्वर कुमार चौधरी का कहना है कि धर्म में शबरी माता का नाम लिया जाता है. उनके जूठे बेर के कारण रामचंद्र(Lord Ram) जी के साथ उनका नाम जुड़ा हुआ है. अगर रामचंद्र जी की मूर्ति अयोध्या में लग रही है तो किसी कोने में शबरी माता जी की भी मूर्ति लगनी चाहिए. इससे दलित समाज में एक अच्च्छा संदेश जाएगा.

Be the first to comment

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.