fbpx

अगर आप भी हैं अपने खर्राटों से परेशान, तो ये उपाय हैं सिर्फ आपके लिए

सोने का तरीका भी आपकी सेहत पर अनुकूल और प्रतिकूल असर डाल सकता है | स्लीपिंग पोजिशन जो आपको पसंद है उससे आपको अच्छी नींद जरूर आएगी किन्तु वह आपके लिए नुकसान दायक भी हो सकती है | आयुर्वेद इस बारे में कहता है कि स्लीपिंग पोजिशन जो आपको अच्छी नींद के साथ साथ सेहत भी भी दे वो ही आदर्श स्थिति है |

आयुर्वेद के अनुसार लेफ्ट साइड पर यानी बाईं तरफ सोना जिसे वामकुशी भी कहते हैं बेस्ट स्लीपिंग पोजिशन या आदर्श अवस्था कहा गया है |

 

बाईं तरफ सोने से कैसे रहती है सेहत ठीक-

  1. हमारा दिल बाईं तरफ होता है, जब हम बाईं करवट से सोते हैं तो ग्रैविटी की मदद से हार्ट की तरफ लसिका की निकासी (lymph drainage) सरल रहती है | ऐसे सोने से दिल के काम करने का बोझ कुछ कम हो जाता है| दिल कि सेहत के लिए आप इसे अपनाये |
  2. बाईं तरफ सोने से ग्रैविटी की मदद से शरीर के अंदर मौजूद वेस्ट बड़ी आसानी से छोटी आंत से बड़ी आंत में पहुंच जाता | सुबह सोकर उठने पर आप फ्रेश होने में तकलीफ का सामना नहीं करेंगे | पाचन तंत्र को इससे बेहद फायदा है |
  3. बाईं तरफ सोने से आपके खर्राटे कम हो जाएंगे और खर्राटे बंद भी हो सकते है |
  4. बाईं तरफ सोने से आपकी जीभ और कंठ, दोनों न्यूट्रल पोजिशन में रहते हैं |
  5. इससे आपके एयरवेज क्लियर साफ रहते है और सांस लेने में आसानी होती हैं|
  6. विशेषज्ञों के अनुसार गर्भवती महिलाओं जो बाईं तरफ सोती है उन्हें इसका लाभ पीठ पर पड़ने वाले प्रेशर के कम होने में मिलता है |
  7. गर्भाशय और फीटस तक ब्लड फ्लो भी बढ़ता है|
  8. बाईं तरफ करवट लेकर सोने से प्लैसेंटा तक पोषक तत्वों का बहाव आसानी से होता है|

 

इस तरह से आप सिर्फ अपने सोने की आदत में चेंज लेकर आसनी से कई तरह की बीमारियों से बच सकते है | सेहतमंद रहने के लिए भी बाईं तरफ करवट लेकर सोने की आदत आपकी सहायता करती है |

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.