fbpx
Advertisements

महिलाओं और बेटियों की बढ़ती समस्या

समाज में बेटियों की सुरक्षा को लेकर अक्सर कहा जाता है कि अगर बेटियों को आगे बढ़ने का अवसर दिया जाएगा तो वे बिगड़ जाएंगी या हाथ से निकल जाएगी, इसी सोंच के साथ हम उन पर रोंक टोंक करना शुरू कर देते हैं| यही सोच आगे बढ़ कर हिंसा का रूप ले लेती है|

आए दिन लड़कियों से हुई छेड़छाड़ के बारे में सुनने को मिलता है | लड़कियों से छेड़छाड़ के मामले आज-कल के लिए जैसे आम बात हो गई है |कोई भी लड़की अपने आसपास के माहौल को अपने लिए सुरक्षित नहीं समझती है| किसी भी लड़की को कहीं पर भी छेड़छाड़ और ज़बरदस्ती जैसी दुर्घटना का सामना करना पड़ता है | एक लड़की को रिक्शा, ट्रेन, बस ,ऑटो ,यहां तक की सड़क पर भी कोई भी छेड़ देता है और वह लड़की अपनी बदनामी के डर से किसी से बता भी नहीं पाती है और शिकायत ना करने के कारण ही या छेड़छाड़ देसी दुर्घटना बलात्कार जैसी बड़ी समस्या का कारण बनती है|

महिलाओं के लिए सुरक्षित माहौल बनाने के लिए हमें मिलकर काम करना होगा| बदलाव लाने के लिए हमें ऐसे मुद्दे बार-बार उठाने चाहिए और इसकी शुरुआत अपने आप में बदलाव के साथ करनी होगी| समाज में महिलाओं के लिए सुरक्षित माहौल बनाने के लिए यह जरूरी है कि हिंसा को किसी भी रूप में समाज में ना स्वीकारा जाए और हर संभव जगह हिंसा का पूर्णता विरोध किया जाए|

-शिवांगी

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: