fbpx
Advertisements

Naseeruddin Shah Controversy: कहा ट्रोल्स उन्हें रोक नहीं सकते


फिल्म इंडस्ट्री के महान अभिनेता नसीरुद्दीन शाह आजकल बयानों के चलते काफी चर्चा में हैं. और अधिकांश लोग उनकी बातों से असहमति प्रकट कर चुके हैं ।

एक्टर नसीरुद्दीन शाह ने इंडिया टुडे से ख़ास बातचीत में बयान पर उठे विवाद को लेकर एक बार फिर अपना पक्ष दोहराया. उन्होंने साफ़ किया कि बयान के बाद जिस तरह सोशल मीडिया पर वो ट्रोल्स के निशाने पर आए हैं, इससे उन्हें रोका नहीं जा सकता. उन्होंने यह भी साफ़ किया कि वो डरे नहीं हैं, लेकिन उन्हें गुस्सा जरूर है.


एक्टर ने कहा, “मुझे अपने बयान पर खेद नहीं है. मैं ये भी नहीं कहता कि मुझे Misquote किया गया. मैं डरा नहीं हूं, लेकिन गुस्से में हूं. पहले मॉब लिंचिंग नहीं होती थी. आजकल ये चीजें हो रही हैं. मैं अपनी चिंता व्यक्त कर रहा हूं. मैं अपने बच्चों के लिए परेशान हूं. मैं बतौर मुस्लिम इंसिक्योर नहीं हूं.आप किसी चीज के बारे में तभी बोलते हैं जब आपको उसकी चिंता होती है. समाज में नफरत और सांप्रदायिकता फैलाई जा रही है. मैं ये बातें एक मुस्लिम शख्स के रुप में नहीं बोल रहा हूं. मैं अपनी मुस्लिम पहचान का फायदा नहीं उठाता. सभी धर्मां का मैं सम्मान करता हूं. एक भारतीय होने के नाते मैंने अपना दर्द बयान किया था मुस्लिम होने के नाते नहीं. ट्रोलर्स के पास कोई काम नहीं है. वे मुझे रोक नहीं सकते.”

भाजपा MLA बोले- पाकिस्तान चले जाएं नसीरुद्दीन शाह, टिकट और वीजा मैं करा दूंगा

हाल ही में भारतीय जनता पार्टी के विधायक सुरेन्द्र सिंह ने फिल्म अभिनेता नसीरूददीन शाह के भारतीय होने पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि शाह को पाकिस्तान चले जाना चाहिए. अपने बयानों के कारण अकसर विवादों के घेरे में रहने वाले सिंह ने कहा, ‘शाह पाकिस्तान चले जाएं. उनके एयर टिकट व वीजा का प्रबंध मैं करूंगा.’ उन्होंने हिंदुओ का आह्वान किया कि वे विकास एवं बिजली की बजाय सम्मानजनक जीवन के लिए मोदी व योगी का समर्थन करें. सुरेंद्र सिंह ने कहा की शाह बनावटी बात बोल रहे हैं. उनकी मानसिकता भारतीय नहीं है. उन्होंने कहा कि शाह को कश्मीरी पंडितों का दर्द समझ नहीं आया. पाक सीमा पर सैनिकों के मारे जाते समय उनका दर्द अभिनेता को समझ नहीं आता.

बता दें, मशहूर अभिनेता नसीरूद्दीन शाह ने पिछले दिनों एक बयान में कहा था कि देश के हालात बहुत बुरे हैं और उन्हें इस पर गुस्सा आता है. उन्होंने कहा था कि हाल में उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में हुई हिंसा में साफ़ देखा गया कि आज देश में गाय की जान की कीमत एक पुलिस अफसर की जान से ज्यादा है.

अनुपम खेर ने नसीरुद्दीन के बयान का विरोध किया था. उन्होंने कहा था- ‘देश में इतनी आजादी है कि सेना को अपशब्द कहे जा सकते हैं. एयर चीफ की बुराई की जा सकती है. सैनिकों पर पथराव किया जा सकता है. इस देश से और कितनी आजादी चाहिए? उन्हें (नसीरुद्दीन शाह) जो कहना था वो उन्होंने कह दिया. लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि वो सच है.’

Please complete the required fields.
Please select your image(s) to upload.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: