दूसरों को भगाने वाली चंद्रकला खुद भाग गईं…फरार है IAS बी.चंद्रकला-नहीं लग रहा कोई सुराग

गिरफ्तार होंगी IAS बी चंद्रकला! CBI ने खोली दी पूरी पोल पट्टी
गिरफ्तार होंगी IAS बी चंद्रकला! CBI ने खोली दी पूरी पोल पट्टी

Moses News

अवैध खनन (Illegal Mining) मामले में CBI की छापेमारी के बाद से यूपी की सबसे धाकड़ आईएएस अफसर बी. चंद्रकला (B. Chandrakala) की मुश्किलें काफी बढ़ गई हैं। वहीं दूसरी तरफ सीबीआई की कार्रवाई बाद से सारे खनिज माफिया भी अंडरग्राउंड हो गए हैं। एक दर्जन आरोपी अपने ठिकानों से फरार हैं।

Illegal Mining Case : IAS B Chandrakala
Illegal Mining Case : IAS B Chandrakala

दरअसल IAS बी चंद्रकला (IAS B Chandrakala) समेत इन सभी माफियाओं पर CBI ने एफआईआर (Illegal Mining Case) दर्ज की है। वहीं छापेमारी के बाद से ही बी. चंद्रकला का भी कोई सुराग नहीं लग रहा। आपको बता दें कि राज्य के कई हिस्सों में छापा मारने के बाद मिले अहम सबूतों को लेकर सीबीआई की टीम दिल्ली जा चुकी है और चंद्रकला को कभी भी पूछताछ के लिए अपने हेडक्वार्टर बुला सकती है।

कहां हैं IAS बी चंद्रकला :

CBI के एक्शन के बाद से करीब एक दर्जन आरोपियों का कोई पता नहीं चल रहा। इन आरोपियों में जालौन के राम अवतार राजपूत और करन सिंह भूमिगत हो गए जबकि हमीरपुर के दिनेश मिश्रा और रमेश मिश्रा भी अपने ठिकानों से फरार हैं। वहीं हमीरपुर के सत्यदेव दीक्षित भी परिवार के साथ फरार हैं। इन सबमें जो सबसे हैरान करने वाली बात है वह यह कि आईएएस बी चंद्रकला का अभी कोई सुराग नहीं लग रहा। लेकिन सूत्रों से जो खबर निकलकर सामने आ रही है उसके मुताबिक चंद्रकला इस समय छुट्टी पर हैं और छुट्टी के बाद से ही वह दिल्ली या तेलंगाना में रह रही हैं।

एफआईआर में इन लोगों के नाम :

2012 में हुए हमीरपुर खनन घोटाले के मामले में सीबीआई ने छापेमारी के बाद जांच के निष्कर्षों के आधार पर 2008 बैच की आईएएस बी चंद्रकला समेत 11 लोगों पर एफआईआर दर्ज की है। बी चंद्रकला, आईएएस, तत्कालीन डीएम, हमीरपुर,- मोइनुद्दीन, तत्कालीन खनन अधिकारी, हमीरपुर,- रामाआसरे, तत्कालीन खनन क्लर्क, हमीरपुर,- रमेश कुमार मिश्र, पट्टा धारक, हमीरपुर (एमएलसी),- दिनेश कुमार मिश्रा, पट्टा धारक, हमीरपुर (एमएलसी रमेश कुमार मिश्र के भाई),- अंबिका तिवारी, पट्टा धारक, हमीरपुर,- संजय दीक्षित, पट्टा धारक, हमीरपुर (बीएसपी से चुनाव लड़ चुके हैं),- सत्यदेव दीक्षित, पट्टा धारक, हमीरपुर (बसपा नेता रहे संजय दीक्षित के पिता),- राम अवतार सिंह, पट्टा धारक, जालौन (सीनियर क्लर्क थे),- करन सिंह, पट्टा धारक, जालौन,- आदिल खान, खननकर्ता, लाजपत नगर, नई दिल्ली

लगी हैं ये धाराएं :

इन लोगों के साथ ही दूसरे अज्ञात निजी और सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया गया है। सभी को आईपीसी की धारा 120 बी, 379, 384, 420 और 511 के अलावा एंटी करप्शन एक्ट की धारा 13 (2) और 13 (1) डी के तहत नामजद किया गया है। नामजद अभियुक्तों में शामिल रमेश कुमार मिश्र सपा के एमएलसी हैं, जबकि संजय दीक्षित हमीरपुर के पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष रह चुके हैं।

अखिलेश का पलटवार :

वहीं खनन घोटाले में हुई सीबीआई की ताबड़तोड़ छापेमारी पर अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) भी खुलकर सामने आए हैं। उन्होंने बीजेपी पर करारा वार करते हुए कहा कि उनके पास सीबीआई है तो हमारे पास गठबंधन। हम गठबंधन कर सकते हैं और जनता के बीच जा सकते हैं। जिन्हें हमें रोकना है उनके पास सीबीआई है। सीबीआई जांच के लिए मैं हर जवाब देने को तैयार हूं। पहले कांग्रेस ने भी सीबीआई से मिलने का मौका दिया था। अखिलेश यादव ने कहा कि बीजेपी ने राजनीतिक शिष्टाचार खत्म किया है लेकिन हम समाजवादी लोग शिष्टाचार नहीं बदलेंगे। उन्होंने कहा कि जनता बीजेपी से बदला लेने के लिए तैयार है।

अभी किन-किन लोगों की फंसेगी गर्दन?

आपको बता दें कि हाईकोर्ट सितंबर 2017 में तत्कालीन समाजवादी पार्टी सरकार के कार्यकाल में अवैध खनन और मनमाने ढंग से खदानों के पट्टे देने को लेकर नाराजगी जाहिर करते हुए पूरे मामले की जांच की गई को सौंपी थी। सीबीआई ने 5 जिलों में जांच शुरू की। इसमें हमीरपुर में सबसे ज्यादा गड़बड़ियां सामने आईं। यहां 60 से ज्यादा मौरंग खदानों के पट्टे मनमाने ढंग से दिए गए। अकेले चंद्रकला ने ही 50 से ज्यादा पट्टे जारी किए थे। चंद्रकला के अलावा सीबीआई ने यहां तैनात रहे सभी तत्कालीन जिलाधिकारियों और खनन से जुड़े अधिकारियों से भी पूछताछ की। अब सीबीआई दूसरे जिलों के भी तत्कालीन डीएम और खनन से जुड़े अफसरों से पूछताछ करेगी। हाईकोर्ट के निर्देश के बाद अवैध खनन मामले में पिछली सरकार के कार्यकाल के दौरान यह मामला कहां तक और किन-किन लोगों की गर्दन तक जाएगा, इसकी भी सुगबुगाहट तेज हो गई है।

Be the first to comment

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.