कानपुर : स्कूल में बच्चे की मौत पर अभिभावकों ने लगाया स्कूल प्रशासन पर प्रताड़ना का आरोप।

* परिजनों के अनुसार स्कूल की वजह से पहले से तनाव में था अंशुमित।
स्कूल जहाँ ,जहाँ बच्चे अपने भविष्य में आजादी से आसमां में उड़ने का सबब पाते हैं, क्या हो अगर वही स्कूल उनकी घुटन और मौत की वजह बन जाए। कुछ ऐसा ही हुआ है कानपुर नौबस्ता के केशव नगर में स्थित मदर टेरेसा हाई सेकेंडरी स्कूल में। मंगलवार को स्कूल के एक छात्र की अचानक संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो जाने से स्कूलों के बच्चों के साथ रिश्तों को सवालो के घेरे में लाकर खड़ा कर दिया है।
कैसे हुई अंशुमित कि मौत?
अंशुमित गुप्ता (10) उर्फ पार्थ पुत्र अमित कुमार गुप्ता, कानपुर नौबस्ता केशव नगर के मदर टेरेसा हाई सेकेंड्री में पांचवी क्लास में पढ़ता था। अंशुमित के परिजनों के अनुसार अंशुमित काफी समय से स्कूल से आने के बाद तनाव में रहता था। जबकि अंशुमित पढ़ाई में ठीक था। अंशुमित कि हालत पर गौर करते हुए कई बार स्कूल प्रशासन को इसकी जानकारी देते हुए बच्चे से सकारात्मक व्यवहार और ध्यान देने के लिए कहा गया पर स्कूल प्रशासन हर बार इस बात को टालता रहा। अंशुमित को बुरी तरह से डांटने और घर से सिफारिश के चलते उसे प्रताड़ित किया जाने लगा।
ऐसा ही कुछ मंगलवार को हुआ जब टीचर ने किए बात को लेकर अंशुमित से सवाल किए तो मानसिक तनाव से ग्रस्त अंशुमित बेहोश होकर जमीन पर गिर पड़ा। जिसके बाद स्कूल प्रशासन ने उसके इलाज के लिये काफी देर तक कोई कदम नही उठाया। अंशुमित को काफी देर होस न आने पर स्कूल से अंशुमित के परिजनों को फोन करके घटना की जानकारी दी जिसके कुछ समय बाद अंशुमित के परिजन उसे लेकर अस्पताल ले गए जहाँ डॉक्टरों ने अंशुमित को म्रत बताया।
वहीं मदर टेरेसा के स्टॉफ का कहना है कि अंशुमित पढ़ने में होनहार था और वो पहले से ही बीमार था जिसकी जानकारी उसके घरवालों ने स्कूल प्रशासन को नही दी थी। क्लास में पढ़ाई के दौरान उसकी तबियत अचानक खराब हुई और वो बेहोश होकर गिर गया। जिसकी जानकारी तुरन्त ही उसके परिजनों को दी गई थी।
स्कूल के खिलाफ कार्यवाई करते हुए अंशुमित की माँ अनुसुइया गुप्ता ने स्कूल के खिलाफ पुलिस को अपनी तहरीर सौंप दी है और स्कूल पर कार्यवाई की मांग की है।

Be the first to comment

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.