fbpx
Advertisements

रॉबर्ट वाड्रा और उनकी मां से आज बीकानेर ज़मीन केस में ED करेगी पूछताछ

जयपुर: दिल्ली में 24 घंटे पूछताछ के बाद राबर्ट वाड्रा आज जयपुर में ईडी के दफ्तर में पेश होंगे. कांग्रेस महासचिव और उनकी पत्नी प्रियंका गांधी भी जयपुर पहुंच चुकी है. वाड्रा की मां मॉरीन भी आज ईडी के सामने सुबह 10 बजे पेश हो सकती हैं. वाड्रा और उनकी मां सोमवार की दोपहर जयपुर पहुंच चुके हैं. राजस्थान हाईकोर्ट के निर्देश पर वाड्रा और उनकी मां मॉरीन वाड्रा ईडी के सामने पेश होंगे.

आरोप है कि उन्होंने बीकानेर जिले के कोलायत में 79 लाख में 270 बीघा जमीन खरीदकर तीन साल बाद 5.15 करोड़ में बेच दी। ईडी ने कई बार समन जारी किए तो वाड्रा ने राजस्थान हाईकोर्ट की जोधपुर पीठ में अपील दायर कर पूछताछ पर सवाल उठाए थे। लेकिन, उन्हें राहत नहीं मिली। ईडी का कहना है कि पूछताछ के बाद ही मामले में वाड्रा की भूमिका स्पष्ट हो पाएगी।

Robert Vadra and his mother to appear before ED today in Bikaner Property Case.
Robert Vadra and his mother to appear before ED today in Bikaner Property Case.

राजस्थान हाईकोर्ट के निर्देश पर वाड्रा और उनकी मां ईडी के समक्ष पेश होंगे. कोर्ट ने उस वक्त दोनों को ईडी द्वारा की जा रही जांच में सहयोग करने को कहा था जब उन्होंने अदालत से ईडी को यह निर्देश देने की मांग की कि वह उनके खिलाफ कोई कठोर कार्रवाई नहीं करे. अधिकारियों ने बताया कि मामले के जांच अधिकारी (आईओ) धनशोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के तहत वाड्रा और उनकी मां का बयान दर्ज करेंगे.

ईडी ने पिछले हफ्ते दिल्ली में तीन अलग-अलग दिन कुल मिलाकर करीब 24 घंटे की पूछताछ की. बीकानेर वाले मामले में ईडी ने वाड्रा को तीन बार तलब किया था, लेकिन वह पेश नहीं हुए और आखिरकार अदालत की शरण में गए. ईडी ने जमीन सौदे के सिलसिले में 2015 में एक आपराधिक मामला दर्ज किया था. राजस्थान पुलिस की तरफ से दर्ज की गई कई प्राथमिकी और दायर किए गए आरोप-पत्रों का संज्ञान लेने के बाद यह केस दर्ज किया गया था. पुलिस ने यह मामले तब दर्ज किए जब बीकानेर के तहसीलदार ने भारत-पाक सीमा होने के कारण संवेदनशील माने जाने वाले इलाके में जमीन आवंटन में कथित फर्जीवाड़े की शिकायत की.

Bikaner Property Case : बीकानेर के जमीन विवाद कैसे फंसे वाड्रा?

सरकारी जमीन फर्जी तरीके से जोराराम के नाम पर रिकॉर्ड में दर्ज किया गया. जोराराम की फर्जी पावर ऑफ अटॉर्नी रणजीत सिंह के नाम हुई. रणजीत सिंह ने जमीन सतीश गोयल को रजिस्ट्री के जरिए बेची. सतीश गोयल ने जमीन वाड्रा की कंपनी स्काईलाइट को बेची.

स्काईलाइट ने जमीन एलीजिनी फिनलीज प्राइवेट लिमिटेड को बेची. 69 हेक्टेयर जमीन जांच के बाद वापस सरकार के पास चली गई. वाड्रा की कंपनी ने जमीन 79 लाख में खरीदकर 5.50 करोड़ में बेची. अब तक इस मामले में 6 से ज्यादा लोग गिरफ्तार हो चुके हैं.

2013 में राजस्थान में भाजपा सरकार बनी और मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने इस जमीन सौदे की जांच शुरू कराई। 2014 में जमीन सौदों को लेकर केस दर्ज किया गया। कुल सोलह मामले दर्ज कराए गए। इनमें से चार मामलों में वाड्रा की कंपनी जुड़ी है। बाद में राज्य सरकार ने मामला जांच के लिए सीबीआई को सौंप दिया। सीबीआई ने 31 अगस्त 2017 को आईपीसी की धारा 420, 461, 478 व 471 के तहत मामला दर्ज किया।

                                                                                  ईडी की पूछताछ से पहले रॉबर्ट वाड्रा ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने लिखा कि मैं अपनी 75 वर्षीय मां के साथ ईडी के सामने पेश होने जा रहा हूं. ये केंद्र सरकार सीनियर सिटिजन के साथ इस प्रकार दुर्व्यवहार कर रही है, जो एक कार क्रैश में अपनी बेटी को चुकी है, अपने बेटे और पति को भी वह खो चुकी हैं.

वाड्रा ने कहा कि तीन मौतों के बाद मैंने सिर्फ उन्हें कुछ समय मेरे दफ्तर में बिताने को कहा और उनपर भी इस तरह के आरोप लगा दिए. रॉबर्ट वाड्रा ने मोदी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि 4 साल 8 महीने में इस सरकार ने कुछ नहीं किया, लेकिन लोकसभा चुनाव से एक महीने पहले ही मुझ पर आक्रामक रुख अपनाया. उन्होंने कहा कि क्या सरकार को लगता है कि लोगों को ये नहीं दिख रहा?

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: