fbpx

राम रहीम की सजा पर पंजाब, हरियाणा में कड़ी सुरक्षा


       हाइलाइट्स

  • 2002 में हुई थी पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की हत्या। डेरे के काले सच का करते थे भंडाफोड़।
  • गुरुवार को होगा सजा का ऐलान। सुरक्षा के मद्देनजर विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ही होगा सजा का ऐलान।
Dera Sacha Sauda Chief- Sant Gurmeet Ram Rahim Singh

गुरुवार को विशेष सीबीआई अदालत ने डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह(Gurmeet Ram Rahim) और उनके तीन करीबी सहयोगियों की सजा सुनाए जाने से पहले हरियाणा और पंजाब के कुछ हिस्सों में सुरक्षा बढ़ा दी गई ।
हरियाणा के पंचकूला में केंद्रीय जांच ब्यूरो, राम रहीम, पूर्व संप्रदाय के प्रबंधक कृष्ण लाल को कारपेंटर कुलदीप और निर्मल के साथ सजा की घोषणा करेगा, जिन्हें 11 जनवरी को पत्रकार राम चंदर छत्रपति की हत्या के लिए दोषी ठहराया गया था।

सजा का ऐलान जज जगदीप सिंह करेंगे।

चंडीगढ़ से सटे पंचकुला के सेक्टर 1 में कोर्ट कॉम्प्लेक्स के पास कड़ी निगरानी की जा रही है।

17 साल पहले Ram Rahim की पोल खोली थी एक गुमनाम चिट्ठी ने

 

सिरसा और फतेहाबाद में धारा 144 लागू

इस बीच सिरसा और फतेहाबाद में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है। सिरसा और फतेहाबाद जिलों में धारा 144 लागू है। सिरसा में पुलिस के साथ-साथ सुरक्षा बलों की 12 कंपनियां तैनात की गई हैं। डेरा के आसपास और अन्य संवेदनशील इलाकों में बुधवार को फोर्स द्वारा गश्त लगाई गई। सजा के ऐलान से ठीक पहले फतेहाबाद में भी किलेबंदी कर दी गई है। कड़ी सुरक्षा के लिए फतेहाबाद में बीएसएफ को भी पुलिस के साथ तैनात किया गया है। डीएसपी धर्मबीर पूनिया ने बताया कि फतेहाबाद में 16 जगह संवेदनशील चिन्हित करके नाके लगाए गए हैं। हर नाके पर आने-जाने वाले वाहनों की चैकिंग की जा रही है।

पंजाब पुलिस ने पड़ोसी राज्य में भी प्रतिबंधात्मक सुरक्षा उपाय किए हैं क्योंकि संप्रदाय के भटिंडा, मनसा और संगरूर में लाखों अनुयायी हैं।

25 अगस्त 2017 को राम रहीम को दोषी ठहराए जाने के बाद पंचकूला और सिरसा में हिंसा हुई थी, जिसमें 41 लोगों की मौत हो गई थी और 260 से अधिक घायल हो गए थे।

अदालत ने बुधवार को हरियाणा में अधिकारियों को विवादास्पद संप्रदाय प्रमुख और तीन अन्य लोगों को अपनी सजा के लिए वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पेश करने की अनुमति दी।

क्या है पत्रकार छत्रपति हत्याकांड? 

पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड करीब 16 साल पुराना है और डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम(Gurmeet Ram Rahim) इसमें आरोपी है। साल 2002 में पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। छत्रपति अपने समाचार पत्र में डेरा से जुड़ी खबरों को प्रकाशित करते थे। पत्रकार छत्रपति के परिजनों ने मामला दर्ज करवाया था और बाद में इसे सीबीआई के सुपुर्द कर दिया गया था। सीबीआई ने 2007 में चार्जशीट दाखिल कर दी थी और इसमें डेरा प्रमुख गुरमीत सिंह राम रहीम को हत्या की साजिश रचने का आरोपी माना था।

 

17 साल पहले Ram Rahim की पोल खोली थी एक गुमनाम चिट्ठी ने

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.